भारत में नया साल कब आता है

नया साल आने ही वाला है इसके कुछ दिन ही बाकी रह गये ये साल भी हर एक साल की तरह खत्म हो जायेगा. कितने जल्दी ये दिन और महीने खत्म होने लगते है मानो कल की ही बात हो किसी ने इस साल कुछ पाया तो कुछ खोया होगा. ऐसे में दिन और साल खत्म हो जाते है. इस साल किसी के घर में शादी होगी या आपमें से किसी न कर भी ली होगी. किसी के घर बीते साल कोई नया मेंहमान आया होगा मतलब की आपके घर में किसी बच्चे ने जन्म लिया होगा ये आपके लिए कितने ख़ुशी के पल होंगे. किसी की जॉब लगी होगी या किसी ने नया ऑफिस खोला होगा. हर साल जीवन में कुछ न कुछ नया हो ही देता है जिसे हम जीवन याद रखते है कुछ ऐसा हुआ होगा जिसे हम याद करके कहते होंगे की वो भी क्या दिन थे क्यूँ सही कहाँ ना हर पल जिन्दगी में कुछ ऐसे भी पड़ाव आते है जहा बुरा समय भी आता है लेकिन बुरा समय भी एक दिन टल ही जाता है कहते है न की हर बुरे दिन के बाद अच्छा समय भी आता है तो हम इस नये साल की शुरुवात भी कुछ अच्छा करके ही करते है तो आप आगे पढ़ेंगे नया साल क्यों मनाया जाता है इसकी शुरुवात कहा से हुई थी. हमारे देश भारत में नया साल कब मनाया जाता है. हमे क्या करना चाहिए और क्या नहीं आगे पढेंगे तो आपको इन सभी बातो की जानकारी हो जाएगी

भारत में नया साल कब मनाया जाता है

आप सब के मन मे ये बात आती होगी की हम सब लोग महीने की 1 जनवरी को हे क्यूँ नये साल की शुरुवात करते है ? क्या आप लोगो ने ये सोचा है की हमारे देश मे कब और कैसे नया साल मनाया जाता है

  • हिन्दुओ में नया साल चेत्र नव रात्रि के प्रथम दिन यानि की गुडी पडवा पर हर साल विक्रम संवत के अनुसार चेत्र शुक्ल प्रतिपदा से आरम्भ हो जाता है
  • भारत वर्ष मे नया साल अलग-अगल समय पर मनाया जाता है
  • भारत मे नये साल की शुरुवात मार्च और अप्रैल के महीने से प्रारम्भ होने लग जाती है
  • पंजाब राज्य मे नया साल वैशाखी के नाम से मनाया जाता है
  • तमिल और तेलुगु प्रान्त के लोग भी ईसी समय के आस पास अपने नये साल की शुरुवात करते है
  • तमिलनाडु मे पोंगल नाम से नया साल मनाते है और जहां महाराष्ट्र मे गुडी पडवा एवं सिन्धी लोग चेती चंड व मारवाड़ी नये साल दीपवाली के रूप में मनाते है

भारत में नये साल मनाने की प्रथा कैसे हुई

  • भारतीय कैलेन्डर के अनुसार नया साल किसान की फसल के पक जाने पर यानि की फसल की कटाई का समय आने लगता उस समय को भी नये के रूप में मनाया जाता है
  • इस समय नये साल के आगमन पर कोई भी काम करने के लिए शुभ अवसर माना जाता है. इस समय लोग अपने जीवन मे कोई भी नया काम करने की शुरुवात को सही मानते है
  • नये साल की शुरुवात में भारतीय नव वर्ष के समय वसंत ऋतू का आगमन हो जाता है फूल-पतियों की खुशबू से हर जगह खुशयाली का माहोल बन जाता है

पश्चमी जगह पर नया साल क्यू मनाया जाता है

  • नये साल मनाने का ईतिहास 4 हजार साल पुराना है जहा पहले ये बेबीलोन मे मनाया जाता था
  • पुराने ज़माने मे नया साल 21 मार्च को ही मनाया जाता था
  • प्राचीन रोम के शासक जुलियस सीजर ने इसा पूर्व 45 वे वर्ष मे जुलियन कैलेन्डर कि स्थापना की उस समय से विश्व मे पहली बार 1 जनवरी को मनाया जाता रहा है I

5 चीज़े जो नये साल पर करनी चाहिए

नये साल पर लोग कुछ न कुछ नया करने की कोशिस करते रहते है हम आपको कुछ ऐसी बाते बतायंगे जो आपको नये साल पर जरुर करनी चाइये

  1. कम्बल बांटे – इस दिन आप किसी भी ऐसे व्यक्ति को जिसके पास कम्बल ओढने को नही है उसे आप कुछ गर्म कपडे और कम्बल बाँट सकते है. ठण्ड का समय रहने के कारन इस दौरान कई ऐसे लोग रह जाते है जिन्हें कम्बल या ऊनि कपडे की जरुरत बहुत ज्यादा होती है तो उनकी मदद कर सकते है
  2. भूखे को खाना – किसी भूखे को खाना खिलाना सबसे बड़ा धर्म माना जाता है हमारे देश में आपको एक ऐसी जगह पर जाना चाहिए जहा भूखे लोग हो या जिन्हें खाने की जरुरत हो उन्हें उस दिन खाना खिलाये जितना भी आपसे हो उतने लोगो की मदद आप कर सके है. उनकी भूख मिटेंगी और आपको परोपकार मिलेगा इतना तो हर किसी को करना ही चाइये
  3. जानवरों को चारा डाले – नया साल हमेशा आपके लिए अच्छा बना रहे इसके लिए आपको अपने आस पास के जानवर या गाय को रोज सुबह चारा डालना चाइये इससे आपका दिन अच्छा जायेगा
  4. अपने आपको बहेतर बनाये – हमे अपने आपको बहेतर बनाने की कोशिस करनी चाइये. हमें कुछ ना कुछ नया सीखते रहना चाइये. अपने आपको आज से बहेतर बनाते रहना चाइये और सीखना ही जीवन का काम है. नयी चीज़े सिखने से कभी न घबराये क्यों के हमेशा कुछ न कुछ सिखा हुआ भी जीवन में कही न कही काम आता ही है
  5. अपने आपको सकारात्मक बनाये रखे – हमे जीवन में बढ़ते रहना है तो आप यह बात जरुर जान ले की हमे हमेशा सकारात्मक सोच रखनी चाइये. ये बात जान लीजिए की जिन्दगी में आपको कभी न कभी हार का सामना करना पड़ सकता है या फिर आप कभी न कभी आपने हार का स्वाद चखा होगा ही हार जीत ये तो जीवन है तो हमे कभी इन चीजों से निराश नही होना है और हस्ते खेलते ये जीवन को चलाते रहना है वेसे भी जीवन बहुत छोटा है अगर हम नकारात्मक चीजों पर ध्यान ज्यादा देंगे तो जियेंगे कब हमेशा सकारात्मक सोच को बनाये रखे

5 चीज़े जो नये साल पर नहीं करनी चाहिए

हम सब ये तो जानते है की क्या करना चाहिए लेकिन क्या ये भी जानते है की क्या नही करना चाइये. चलिए आइये आपको ऐसी कुछ 5 बातो को बतायंगे की आपको नये साल के दिन नही करनी चाइये

  1. लड़ाई और झगडा – देखिये जब नया साल का आगमन होता है तो सब परिवार और सभी दोस्त यार जहा खुशिया मनाते है ऐसे में अगर कही कोई मार धाड़ करे तो नया साल पर ये सही नहीं माना जाता है तो सभी से निवेदन है की आप लोग सब इस अवसर पर प्यार बढाये ना की कोई लड़ाई झगडे करके किसी प्रकार का रोष दिखाए
  2. किसी चीज़ की तोड़ फोड़ न करे – नये साल के आगमन पर किसी भी प्रकार की तोड़ फोड़ न मचाये ये अच्छा संकेत भी नही होता और ऐसा किसी को नए साल पर करना भी नहीं चाइये
  3. रोना धोना – नया साल किसी के लिए भी एक अच्छा दिन बने ये सब चाहते है लेकिन क्या हो जब कोई रोना धोना करे छोटी छोटी बात पर उस दिन कोई नोटंकी या कोई भी किसी को परेशान करे ये सब शुभ नहीं माना जाता है तो ऐसा नहीं करना चाइये
  4. क़र्ज़ लेना – नये साल पर किसी से कर्जा नही लेना चाहिए ये शुभ नहीं माना जाता है ऐसा माना जाता है की कोई भी अगर नये साल की शुरुवात में ही कर्जा ले लेता है तो उसका पूरा साल कर्जे में जाता है जब तक कोई बड़ी समस्या न पड़े कर्ज लेने से बचे
  5. नकारात्मक लोगो से दूर रहे – हर कोई चाहता है की मेरा नया साल एक अच्छा और सुख और खुशियों से भरा हो. ऐसा तब होगा जब आप लोग नकारात्मक चीजों से दूर रहेंगे आप किसी के साथ बुरा नहीं करेंगे अच्छे लोगो की मदद करेंगे और नकारात्मक लोगो से दुरी बनाकर रहेंगे

नया साल की शायरी

“जीवन आपका महके जैसे हर फूल,
आये ना आपके सपनों पर कोई धुल,
करें हमेशा आपकी हर दुआ खुदा कबूल,
हर दुआ पूरी करना खुदा ना जाये भूल”

“नये साल के नये दिनों को
आओ बनायें नया त्यौहार ,
सुगम, सुलझ और सफल जीवन के लिए उठायें नया संकल्प “

“नये वर्ष में नयी उमंगें लेकर आये साल नया
आपस में मिल जुलकर सबमें प्रेम बढ़ाये साल नया “

“नए साल में नयी बहार
नयी बात और नए विचार
जीवन बने नया त्यौहार
मिलें खुशियां आपको इस बार”

“कभी हंसाती है, कभी रुलाती है
ये जिंदगी भी ना जाने कितने रंग दिखाती है
हँसते हैं तो कभी आँखों में नमी आ जाती है
न जाने ये कैसी यादें हैं जो दिल में बस जाती हैं
दुआ करते हैं इस नए साल के अवसर पर
मेरे दोस्तों के लबों पे सदा मुस्कान रहे
क्यूंकि उनकी हर मुस्कराहट हमें ख़ुशी दे जाती है”

“आपकी राहों में फूलों को बिखराकर लाया है नववर्ष
महकी हुई बहारों की खुशबू लाया है नववर्ष”

नया साल आप सब लोगो के लिए शुभ हो मैं आप सभी के लिए मंगल कामना करता हु की आपकी सारी मनोकामनाए जल्द पूरी हो
|| धन्यवाद ||