ओले क्या है | WHAT IS HAIL

आपने ओले अपने घर के आँगन या सडको पर गिरते देखा तो होगा ही कभी यह छोटे रूप में तो कभी बड़े रूप में एक क्रिकेट की गेंद जितने बड़े होते है तो कभी आपने ये सोचा की यह केसे बनते है तो में आपको इसके बारे में पूरी तरह से जानकारी देने वाला हु आप लोग तो जानते होंगे की बर्फ पानी के जमने से बनता है कई बार बारिश के दौरान अचानक पानी की बूंदों के साथ बर्फ के गोले गिरते है उन्हें ही ओले कहते है ये तो हो गई इसकी सिंपल परिभाषा अब आपको इसे पूरी तरह से समझाते है तो जब आसमान के तापमान में शून्य से कई डिग्री कम हो जाता है तो हवा में मोजूद नमी ठंडी बूंदों के रूप में जम जाती है धीरे धीरे यह बर्फ के गोले का रूप ले लेती है जो ओले में तब्दील हो जाते है जब यह आकाश में इनकी बुँदे भारी होने लगती है तब इनका वजन बढ़ जाता है और गुरुत्वाकर्षण को वजह से यह धरती पर गिरने लग जाते है

ओलो के निर्माण के लिए आवश्यक जो बादल होते है उनका नाम क्यूम्यलोनिम्बस है ये बादल सतह से उठने वाली गर्म हवा के साथ विकसित होते हैं. हम जानते हैं वायुमंडलीय दबाव के कारण तापमान ऊंचाई में कम होने लगता है. एक बार जब यह उन क्षेत्रों में पहुंच जाता है जहां तापमान शून्य डिग्री से नीचे होता है तो यह बादलों के रूप में छोटी पानी की बूंदों में बदलने लगता है बादल के अंदर का तापमान बहुत कम होता है तो न केवल पानी की बूंदें बनती हैं बल्कि बर्फ की बूंदें बनती हैं  इसके निर्माण के लिए हाइग्रोस्कोपिक संघनन नाभिक की आवश्यकता होती है जैसे कि धूल के छींटे, रेत के निशान, प्रदूषणकारी कण या अन्य गैसें.

ओलावृष्टि से फसलों लोगों और पशुओं के अलावा विशेष रूप से विमान,ऑटोमोबाइल,कांच की छत वाली संरचनाओं,रोशनदानों को गंभीर नुकसान हो सकता है.

भारत में कब ओले गिरते है

सर्दियों और मानसून से पहले ओलावृष्टि का सबसे अधिक खतरा होता है. दक्षिण पश्चिम मानसूनी मौसम में ओलावृष्टि की घटनाएं न के बराबर होती हैं ओलावृष्टि होने के लिए वातावरण अत्यधिक अस्थिर होना चाहिए।ओलावृष्टि का समय दोपहरऔर शाम के कुछ घंटों के दौरान होता है.

कहा ओले गिरते और कहा नही

देश में पूर्वोत्‍तर के राज्‍यों में ओलावृष्ठि का खतरा सबसे ज्‍यादा होता है समुद्र तटीय प्रायद्वीपीय वाले हिस्‍सों जैसे- मुंबई और तेलंगाना में ओले नहीं गिरते ऐसा इसलिए होता है क्‍योंकि ये ऐसे राज्‍य हैं जहां या तो बहुत ज्‍यादा नमी रहती है या फिर तापमान गर्म रहता है शायद ही यहां ओलावृष्ठि होती है वहीं प्री-मानसून सीजन में पंजाब,हरियाणा और राजस्‍थान में ओलावृष्ठि ज्‍यादा होती है इसके अलावा सर्दियों में उत्‍तर प्रदेश और मध्‍यप्रदेश में ओलावृष्ठि होती है.

ओले गोल क्यूँ होते है

पानी जब बूंद के रूप में गिरता है तो सरफेस टेंशन के कारण पानी की बूंदे गोल आकार ले लेता है आपने नल से कभी टपकते हुए पानी की बूंदों को देखा होगा ये बूंद गोल रूप में होती है उसी तरह ही जब आसमान से पानी गिरता है तो वह बूंद के रूप में बर्फ बन जाता है इनमें बर्फ की कई सतहें होती हैं अभी तक सबसे बड़ा ओला एक किलोग्राम का आसमान से गिर चुका है.

FAQ

प्रश्न – ओले के निर्माण किस बादल से होता है ?

उत्तर – क्यूम्यलोनिम्बस

प्रश्न – ओलावृष्टि का सबसे अधिक खतरा कब होता है ?

उत्तर – सर्दियों और मानसून से पहले ओलावृष्टि का सबसे अधिक खतरा होता है

प्रश्न – ओलावृष्टि किन राज्यों में ज्यादा होती है ?

उत्तर – पंजाब, हरियाणा और राजस्‍थान

अभी तक आपने जाना की ओले क्या है कब होते है किन किन जगहों पर ज्यादा होते है इसके परिणाम क्या हो सकते है

तो में आपसे आशा करता हु की आपको ये मेरा लेख पसंद आया होगा आपको इससे आपको जानकारी प्राप्त हुई होगी

मैंने यह जरुरी बातो को हे आपसे शेयर किया है || धन्यवाद ||